Categories: फाइनेंस

अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में अगर आप रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं क्योंकि आपकी आय टैक्सेबल नहीं है तो एक बार इसके फायदे जरूर पढ़ लें.

Income Tax Return Filing : इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर है. अगर आपने अभी तक रिटर्न फाइल नहीं किया है तो जरूर कर लीजिए. इनकम टैक्स एक्ट के मुताबिक, 2.5 लाख से ज्यादा सालाना आय रखने वाले सभी लोगों को अनिवार्य रूप से रिटर्न फाइल करना चाहिए. ड्यू डेट के पहले अपना रिटर्न नहीं फाइल करने पर आपको जुर्माना देना पड़ सकता है. अलग-अलग आय वर्ग के लोगों को अलग-अलग जुर्माना भरना पड़ता है.

लेकिन असली सवाल यह कि अगर आपकी आय टैक्सेबल नहीं है, यानी आपकी आय पर टैक्स नहीं कटता या फिर अगर कोई रिफंड भी नहीं बनता तो भी क्या आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करनी चाहिए या नहीं?

दरअसल हां, अगर आपकी सालाना आय पर आप टैक्स रिटर्न फाइल कर रहे हैं चाहे भले ही कोई टैक्स कट नहीं बनता हो या फिर रिफंड न मिलता हो, आपको इसके कई फायदे मिलते हैं. आपका आईटीआर कई मामलों में आपको कई लाभ पहुंचा सकता है, वहीं कई मौकों पर अहम दस्तावेज का काम कर सकता है.

क्या है ITR फाइल करने के फायदे?

नहीं भरना होता जुर्माना

सबसे पहली बात आपको आईटीआर न भरने के लिए या फिर देरी से भरने के लिए निर्धारित जुर्माना नहीं भरना पड़ता. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में आपका रिकॉर्ड क्लीन रहता है. वहीं, आप कानूनी पचड़ों के झंझट से भी बच जाते हैं. इनकम टैक्स एक्ट की धारा 234F के तहत अगर आपकी सालाना आय 5 लाख से कम है तो आपको 1,000 और इससे ज्यादा की आय पर 10,000 का जुर्माना भरना पड़ता है. ऐसे में आपकी ड्यूटी बनती है कि आप अपना टैक्स रिटर्न फाइल करें.

एक्स्ट्रा इंटरेस्ट से बच जाएंगे

आईटीआर फाइल नहीं करने की स्थिति में, आपके ऊपर किसी स्थिति में बने रिटर्न पर ब्याज 1 फीसदी प्रति महीना बढ़ता रहता है, ऐसे में अगर आप आईटीआर फाइल नहीं करेंगे तो यह ब्याज की रकम बढ़ती ही जाएगी.

रिफंड क्लेम करना है तो

अगर आपके किसी निवेश में TDS (tax deducted at source) कटा है तो आपको रिफंड क्लेम करने के लिए आईटीआर भरना होगा. यानी रिफंड चाहिए तो आईटीआर भरिए.

क्रेडिट और लोन प्रोसेसिंग में मिलती है मदद

आईटीआर की रसीद ऐसे मौके पर काम आती है. अगर आप भविष्य में कभी पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो यह मदद कर सकती है. बैंक और फाइनेंशियल कंपनियांं आपका क्रेडिट तय करने में आईटीआर की रसीद को वरीयता देती हैं. ऐसे में अगर आप अपना रिटर्न फाइल करते रहे हैं तो आपको लोन लेने में दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा.

Pallavi Agarwal

Recent Posts

लॉकडाउन में देह व्यापार मजबूर राजस्थान का घुमंतू समुदाय !

आज़ादी के बाद से लेकर अब तक 6 आयोग बने हैं. इनका काम घुमन्तू समुदायों…

1 month ago

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के मीडिया अध्ययन विभाग में भरतमुनि संचार शोध केंद्र का हुआ उद्घाटन

अभा संत समिति के महामंत्री पूज्य स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती जी ने अपने आशीर्वचन में शोध…

1 month ago

डॉ साकेत बने भरत मुनि शोध केंद्र के सह समन्वयक

मोतिहारी। महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नव गठित आचार्य भरत मुनि संचार शोध केंद्र में…

1 month ago

कैसे करें आईटीआर फॉर्म-1 फाइल?

इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने का मतलब सरकार को अपनी आमदनी की जानकारी देना…

2 months ago

केंद्र ने राज्यों से नए साल पर कोरोना वायरस को लेकर पाबंदियों पर विचार करने के लिए कहा

कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन के डर को देखते हुए केंद्र सरकार ने नए साल के…

2 months ago

भारत में बढ़ रहा कोरोना का नया रूप, ब्रिटेन के COVID-19 स्ट्रेन के कुल मामले हुए 20

भारत में UK के कोरोनावायरस (Coronavirus New Strain) स्ट्रेन से संक्रमित होने वालों की संख्या…

2 months ago

This website uses cookies.