एसबीआई बैंक ने शुरू की नई सुविधा: किसान क्रेडिट कार्ड का अब लिमिट बढ़वाना हुआ आसान,

किसानों के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने एक बड़ी राहत दी है। अब कोई भी किसान , जिसके पास किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) है वह अपनी लिमिट घर बैठे घटा या बढ़ा सकता है। देश के सबसे बड़ा कर्जदाता एसबीआई ने योनो कृषि पर किसान क्रेडिट कार्ड समीक्षा या KCC समीक्षा विकल्प नामक एक नई सुविधा शुरू की है। किसानों को अब अपने क्रेडिट कार्ड की सीमा में संशोधन हेतु आवेदन करने के लिए बैंक शाखा के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। एसबीआई ने कहा है कि योनो कृषि पर केसीसी की समीक्षा का विकल्प किसानों को बिना किसी कागजी कार्रवाई के अपने घरों के आराम से सिर्फ चार क्लिक में ही आवेदन करने में मदद करेगा।

केसीसी की विशेषताएं 

  • केसीसी खाते में क्रेडिट बैलेन्स पर बचत बैंक की दर पर ब्याज दिया जाता है।
  • समस्त केसीसी उधारकर्ताओं के लिए मुफ्त एटीएम सह डेबिट कार्ड (स्टेट बैंक किसान कार्ड)
  • 3 रुपये लाख तक के ऋण राशि के लिए 2% प्रति वर्ष की दर से ब्याज छूट उपलब्ध है।
  • अगर लोन जल्दी चुकाते हैं तो 3% प्रति वर्ष की दर से अतिरिक्त ब्याज छू
  • समस्त केसीसी ऋणों के लिए अधिसूचित फसल /अधिसूचित क्षेत्र, फसल बीमा के अंतर्गत कवर किए जाते हैं।
  • प्रथम वर्ष के लिए ऋण की मात्रा कृषि लागत, फसल के बाद खर्च और कृषि भूमि अनुरक्षण लागत के आधार पर निर्धारित किया जाएगा।
  • बाद के 5 वर्षों के दौरान वित्त की मात्रा में वृद्धि के आधार पर ऋण स्वीकृत किया जाएगा।
  • 1.60 लाख रुपये तक की केसीसी सीमा के लिए Collateral security की आवश्यकता नहीं है ।
  • एक वर्ष अथवा चुकौती की देय तिथि तक, इनमें से जो भी पहले हो, 7% प्रति वर्ष की दर से साधारण ब्याज लगाया जाएगा।
    • देय तिथियों के अंदर चुकौती न होने के मामले में कार्ड दर पर ब्याज देना पड़ेगा ।
    • देय तिथि के बाद अर्ध वार्षिक रूप से चक्रवृद्धि ब्याज लगेगा।
    • चुकौती अवधि का निर्धारण फसल जिसके लिए ऋण प्रदान किया गया है के अनुमानित कटाई और विपणन अवधि के अनुसार किया जाएगा।

    केसीसी के लिए जरूरी दस्तावेज

  • आईडी प्रूफ के लिए: वोटर ID card/ PAN कार्ड/ पासपोर्ट/आधार कार्ड/ ड्राइविंग लाइसेंस आदि।
  • एड्रेस प्रूफ: वोटर ID card / पासपोर्ट/आधार कार्ड/ड्राइविंग लाइसेंस आदि।
  • ऐसे मिलेगा लोन

    कोई भी बैंक किसान को केसीसी कार्ड जारी करने को लेकर आनाकानी नहीं कर सकते। सरकार के पास किसानों के आधार नंबर, उनका अकाउंट नंबर और उनके जमीन का पूरा रिकॉर्ड है। इस आधार पर आवेदन करने बैंक को केसीसी देना ही पड़ेगा। वहीं रिजर्व बैंक ने घोषणा की है कि किसान क्रेडिट कार्ड धारक अपने घरेलू खर्चों का भुगतान करने के लिए अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। किसान क्रेडिट कार्ड पर कर्ज की दर 4 फीसदी है। किसान इस ब्याज दर पर सिक्योरिटी के बिना 1.60 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं। समय पर भुगतान करने पर लोन राशि को 3 लाख रुपये तक बढ़ाया जा सकता है।

    ऐसे बनवाएं अपना किसान क्रेडिट कार्ड 

    सबसे पहले आप  https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।  इस बेवसाइट में फॉर्मर टैब (Farmer Tab) के दाईं ओर डाउनलोड केसीसी फार्म ( download KCC Form) का विकल्प दिया गया है। यहां से फॉर्म डाउनलोड करें और प्रिंट करने के बाद इसे भरें। इसके बाद अपने पास के बैंक में यह फॉर्म भरकर जमा करें। कार्ड तैयार हो जाने पर बैंक आपको सूचित करेगा और कार्ड आपके पते पर भेज देगा।

    ये जानना जरूरी

    अगर आपका पहले से कोई कृषि लोन चल रहा है तो इसके बारे में जानकारी देनी जरूरी है। कितनी जमीन खतौनी में आपके नाम है। गांव का नाम, सर्वे/खसरा संख्या. कितने एकड़ जमीन है और कौन सी फसल बोने जा रहें यानी रबी, खरीफ या अन्य इस बारे में फॉर्म में जानकारी देनी होगी। साथ ही आपको बतान होगा कि आपने किसी अन्य बैंक या शाखा से कोई और किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनवाया है।

Priti Chaubey

Recent Posts

लॉकडाउन में देह व्यापार मजबूर राजस्थान का घुमंतू समुदाय !

आज़ादी के बाद से लेकर अब तक 6 आयोग बने हैं. इनका काम घुमन्तू समुदायों…

3 weeks ago

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के मीडिया अध्ययन विभाग में भरतमुनि संचार शोध केंद्र का हुआ उद्घाटन

अभा संत समिति के महामंत्री पूज्य स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती जी ने अपने आशीर्वचन में शोध…

3 weeks ago

डॉ साकेत बने भरत मुनि शोध केंद्र के सह समन्वयक

मोतिहारी। महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नव गठित आचार्य भरत मुनि संचार शोध केंद्र में…

3 weeks ago

कैसे करें आईटीआर फॉर्म-1 फाइल?

इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने का मतलब सरकार को अपनी आमदनी की जानकारी देना…

2 months ago

अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में…

2 months ago

केंद्र ने राज्यों से नए साल पर कोरोना वायरस को लेकर पाबंदियों पर विचार करने के लिए कहा

कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन के डर को देखते हुए केंद्र सरकार ने नए साल के…

2 months ago

This website uses cookies.