दिल्ली में अब अनियंत्रित हो रहे कोरोना संक्रमण के चलते यहां फिर से होगा लॉकडाउन

दिल्ली में अब अनियंत्रित हो रहे कोरोना (Covid-19) संक्रमण के चलते यहां फिर से लॉकडाउन की सुगबुगाहट सुनाई देने लगी है। केजरीवाल सरकार भी इस महामारी पर काबू पाने के लिए पूरी तरह एक्शन मोड में आ गई है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने शादी-विवाह और सभाओं में दी गई छूट वापस लेने का निर्णय लिया है। शादी-विवाहों में 200 की जगह 50 लोगों के शामिल होने का एक प्रस्ताव भी स्वीकृति के लिए आज सुबह एलजी अनिल बैजल जो कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के अध्यक्ष भी हैं, को भेजा गया है। उम्मीद है जल्द ही उस पर मंजूरी मिल जाएगी।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने बताया कि दिल्ली में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए बाजारों में छोटे स्तर पर लॉकडाउन करने का एक प्रस्ताव मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को को भेजा गया है। अगर सरकार को लगता है कि वो बाजार लोकल कोरोना हॉट स्पॉट बन सकता है तो एहतियात के तौर पर कुछ समय के लिए बाजार को बंद कर सकते हैं।

केजरीवाल ने कहा कि कुछ हफ्ते पहले जब दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति में सुधार हुआ था तो शादी, विवाह और सभाओं में शामिल होने वाले मेहमानों की संख्या 50 से बढ़ाकर 200 कर दी गई थी, लेकिन अब सरकार ने इस आदेश को वापस लेने का फैसला किया है।

उन्होंने आगे कहा कि दिवाली के दौरान हमने शहर के सभी बाजारों में भारी भीड़ देखी थी और उनमें से कुछ में बड़ी संख्या में लोग न तो मास्क पहने हुए पाए गए और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए। इसके कारण कोरोना वायरस तेजी से फैला। भले ही अब बाजारों में भीड़ कम होने की उम्मीद है, हम केंद्र सरकार को एक प्रस्ताव भेजेंगे जिसमें हमें उन बाजारों को अस्थायी रूप से बंद करने की अनुमति मांगी गई है जहां हम सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड-19 नियमों के उल्लंघन या संभावित हॉटस्पॉट के रूप में देखते हैं।

केजरीवाल ने कहा कि सारी सरकारें और एजेंसियां मिलकर कोरोना को काबू में करने के लिए दोगुना प्रयास कर रहीं हैं, लेकिन ये तब तक सफल नहीं होगा, जब तक आप लोग सावधानी नहीं बरतेंगे। आप सभी से अपील है कि अपने परिवार के स्वास्थ्य के लिए मास्क अवश्य पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। कोरोना अमीर-गरीब में भेदभाव नहीं करता है और यह सभी को हो सकता है।

उन्होंने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) के मौजूदा दिशानिर्देशों के तहत, राज्यों को स्थानीय लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध लगाने के लिए केंद्र की मंजूरी की आवश्यकता है।

केजरीवाल ने मंगलवार को कोविड-19 के खिलाफ दिल्ली की लड़ाई में आईसीयू बेड्स बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार के सहयोग की सराहना की।

Priti Chaubey

Recent Posts

लॉकडाउन में देह व्यापार मजबूर राजस्थान का घुमंतू समुदाय !

आज़ादी के बाद से लेकर अब तक 6 आयोग बने हैं. इनका काम घुमन्तू समुदायों…

3 weeks ago

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के मीडिया अध्ययन विभाग में भरतमुनि संचार शोध केंद्र का हुआ उद्घाटन

अभा संत समिति के महामंत्री पूज्य स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती जी ने अपने आशीर्वचन में शोध…

3 weeks ago

डॉ साकेत बने भरत मुनि शोध केंद्र के सह समन्वयक

मोतिहारी। महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नव गठित आचार्य भरत मुनि संचार शोध केंद्र में…

3 weeks ago

कैसे करें आईटीआर फॉर्म-1 फाइल?

इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने का मतलब सरकार को अपनी आमदनी की जानकारी देना…

2 months ago

अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में…

2 months ago

केंद्र ने राज्यों से नए साल पर कोरोना वायरस को लेकर पाबंदियों पर विचार करने के लिए कहा

कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन के डर को देखते हुए केंद्र सरकार ने नए साल के…

2 months ago

This website uses cookies.