आइये जानते हैं नवरात्री के कुछ नियम ,इन 6 बातों का जरूर रखे ख्याल

Navratri vtrat niyam :नवरात्रि के पवित्र दिनों में 9 दिनों तक देवी मां की उपासना की जाती है। इस दौरान नौ दिनों (17 अक्टूबर 2020 से 25 अक्टूबर 2020) तक मां को प्रसन्न करने के लिए भक्तजन व्रत व पूजा-अनुष्ठान करते है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, नवरात्रि के नौ दिनों तक मां के नौ स्वरूपों की पूजा अर्चना करने और व्रत रखने से घर में सुख शांति बनी रहती है। मां भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। नवरात्रि में पूजा उपासना के साथ ही नियम-संयम का भी बहुत महत्व है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, नवरात्रि का व्रत रखनेवालों के लिए कुछ नियम होते हैं जिनका पालन अवश्य किया जाना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार अगर इन नियमों का पालन करने वाले भक्तों पर मातारानी की कृपा रहती और उनकी मनोकामना पूरी होती है।

नवरात्रि व्रत में करें इन 6 नियमों का पालन- 

1- कन्याओं/महिलाओं का सम्मान करें-
भारतीय परंपरा में कन्याओं को मां दुर्गा का स्वरूप माना गया है। यही कारण है कि नवरात्रि में कन्या पूजन या कंजका पूजन कर लोग पुण्य की प्राप्ति करते हैं। नवरात्रि के दिनों में सभी महिलाओं किसी न किसी देवी का स्वरूप होता है। इसलिए किसी भी कन्या या महिला के प्रति असम्मान का भाव मन में भी नहीं आना चाहिए। कन्याओं को देवी स्वरूप मानकर उन्हें मन ही मन प्रणाम करना चाहिए। हमारे शास्त्रों में यहां तक कहा गया है कि यत्र नार्यास्तु पूजयंते रमंते तत्र देवता।

2- धार्मिक कार्यों में मन लगाएं-
माना जाता है कि व्रत करने वाले को नवरात्रि नौ दिनों तक अपना समय भौतिकता वाली बातों में न लगाकर धार्मिक ग्रंथों का अध्यन करना चाहिए। इन दिनों दुर्गा चालीसा या दुर्गा सप्तसती का पाठ कर सकते हैं।

3- घर अकेला न छोड़ें-
यदि आपने घर में कलश (घट) स्थापना की है या माता की चौकी या अखंड ज्योति लगा रखी है तो उसके पास किसी एक व्यक्ति का रहना जरूरी होता है। इस दौरान नौ दिनों तक घर में किसी एक व्यक्ति का रहना जरूरी होता है। साथ व्रत के दौरान दिन में सोना भी मना है।

4- तामसिक भोजन से परहेज करें-
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, नवरात्रि के पावन दिनों में सात्विकता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आहार, व्यवहार और विचार में आपके सात्विकता होना जरूरी है। आप इन दिनों तामसिक प्रवृत्ति का भोजन जैसे नॉनवेज, प्याज-लहसुन और मदिरा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। कम से कम नवरात्रि के नौ दिनों तक पूरी तरह से सात्विक आहार लेना चाहिए।

5- काम वासना पर कंट्रोल रखें-
नवरात्रि के दिनों में काम भावना पर नियंत्रण रखने को भी जरूरी बताया गया। नवरात्रि के दौरान महिलाओं और पुरुषों दोनों को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। संभव हो तो अलग-अलग बिस्तर पर सोना चाहिए।

6 – व्रत के दौरान गुस्सा न करें-
नवरात्रि के दिनों में बहुत से लोग क्रोध पर काबू नहीं रख पाते और कलह का वातावरण पैदा करते हैं। ऐसे लोगों को कम से कम नौ दिनों तक व्रत के दौरान गुस्सा करने से बचना चाहिए। हो सकते ज्यादा से ज्यादा मौन व्रत रखें या कम से कम बात करें। व्रत में शारीरिक ऊर्जा की कमी होती है ऐसे में व्रत के दौरान ज्यादा बोलने से आपके शरीर में और ज्यादा कमजोरी आ सकती है। इसलिए शांतिपूर्वक व्रत करना उत्तम माना गया है।

Priti Chaubey

Recent Posts

लॉकडाउन में देह व्यापार मजबूर राजस्थान का घुमंतू समुदाय !

आज़ादी के बाद से लेकर अब तक 6 आयोग बने हैं. इनका काम घुमन्तू समुदायों…

3 weeks ago

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के मीडिया अध्ययन विभाग में भरतमुनि संचार शोध केंद्र का हुआ उद्घाटन

अभा संत समिति के महामंत्री पूज्य स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती जी ने अपने आशीर्वचन में शोध…

3 weeks ago

डॉ साकेत बने भरत मुनि शोध केंद्र के सह समन्वयक

मोतिहारी। महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नव गठित आचार्य भरत मुनि संचार शोध केंद्र में…

3 weeks ago

कैसे करें आईटीआर फॉर्म-1 फाइल?

इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने का मतलब सरकार को अपनी आमदनी की जानकारी देना…

2 months ago

अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में…

2 months ago

केंद्र ने राज्यों से नए साल पर कोरोना वायरस को लेकर पाबंदियों पर विचार करने के लिए कहा

कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन के डर को देखते हुए केंद्र सरकार ने नए साल के…

2 months ago

This website uses cookies.