हाथरस में सीबीआई जाँच के दौरान पड़िता के भाई से हुई पूछताछ

हाथरस में हुई हैवानियत की जांच करने के लिए मंगलवार को पहुंची सीबीआई की टीम ने लगभग चार घंटे तक गांव बूलगढ़ी में डेरा डाला। जांच दल ने लगभग पौने तीन घंटे तक घटनास्थल (बाजरे के खेत) का कोना-कोना छान मारा। युवती की चिता जलाने के स्थान का भी मौका-मुआयना किया। पीड़िता के घर परिजनों से पूछताछ करने के बाद टीम युवती के भाई को साथ लेकर चली गई। करीब पौने चार घंटे तक पूछताछ करने के बाद टीम ने उसे गांव भेज दिया।

इस हाईप्रोफाइल केस की जांच कर रहा दल सुबह पौने ग्यारह बजे चंदपा कोतवाली पहुंचा। डिप्टी एसपी सीमा पाहुजा की अगुवाई में 15 सदस्यीय जांच दल ने इस मामले से जुड़े पुलिसवालों से पूछताछ की। इसके बाद अफसरों का काफिला गांव के लिए रवाना हुआ। सीबीआई की टीम के पहुंचने से पहले ही स्थानीय पुलिस-प्रशासन ने गांव के सभी नाकों पर भारी फोर्स तैनात कर दिया। घटनास्थल की बैरीकैडिंग करा दी। अनजान लोगों को गांव में घुसने से रोक दिया, ताकि टीम को जांच में कोई व्यवधान पैदा न हो।

 पौने तीन घंटे घटनास्थल पर बिताए टीम ने
जांच दल सबसे पहले घटनास्थल यानि बाजरे के खेत में पहुंचा। टीम के सदस्यों ने पूरे खेत का कौना-कौना छान मारा। पूरे खेत की ढंग से पैमाइश की गई।स्थानीय पुलिस को दूर रखा गया।  फोरेंसिक दल ने कई नमूने मौके से उठाए। काफी देर तक डिप्टी एसपी टीम के साथ मंत्रणा करती रहीं। इसके बाद पीड़िता के भाई को खेत में बुलाया और उसकी जुबानी पूरी घटना सुनी। टीम ने उसे बाजरे के खेत में घुमाया ताकि यह स्पष्ट हो सके कि पीड़िता कहां घास काट रही थी। आरोपी किधर से खेत के अंदर आये। कैसे उसे खेत में खींचकर ले गये। मौका-ए-वारदात उसे खड़ा करके वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी के बीच उससे पूछताछ की गई। इसके बाद टीम ने पीड़िता की मां और चाची को भी घटनास्थल पर बुलवाया और पूछताछ की। यहां लगभग पौने तीन घंटे बिताने के बाद जांच दल यहां से निकल गया।

चिता जलाने के स्थान पर की गहन पड़ताल
घटनास्थल से निकलने के बाद टीम  सीधे परसौली मार्ग स्थित उस खेत पर पहुंची जहां शव जलाया गया था। चिता से राख और कुछ अस्थियों को कब्जे में ले लिया। कार्यवाही में मीडिया को कई मीटर दूर रखा गया। इस मौके पर टीम ने मौके से कुछ नमूने भी उठाए। उस समय मौके और आसपास मौजूद गांववालों से भी टीम के सदस्यों ने पूछताछ की। यहां लगभग चालीस मिनट  बिताने के बाद टीम यहां से रवाना हो गई।

आधा घंटे तक पीड़िता के घर परिजनों के साथ
जांच दल इसके बाद गांव में पीड़िता के घर पहुंचा। टीम के प्रवेश के बाद मेन गेट बंद करा दिया गया। टीम के पहुंचने से पहले मीडिया को वहां से कुछ दूर कर दिया गया। टीम ने आधा घंटे तक परिजनों से बातचीत की। बताया जाता है की टीम ने घर की भी बारीक नजरों से पड़ताल की। यहां से टीम उस केन को भी ले गई है, जिसमे केरोसिन बताया गया है, जबकि प्रशासन ने दावा किया था कि उसमें गंगा जल था। यहां घर के सदस्यों से एक-एक करके जानकारी करने के बाद टीम रवाना हो गई।
पौने चार घंटे की पूछताछ करने के बाद टीम ने छुड़वा दिया

सीबीआई  जांच दल पीड़िता के परिजनों से बात करने के बाद लड़की के छोटे भाई को अपने साथ लेकर चली गई। भाई को साथ ले जाने से परिजन और अन्य लोग भी चौंक गए। सीबीआई ने आगरा रोड पर ही कृषि विभाग के कार्यालय को अपना कैंप कर्यालय बनाया है। पीड़िता के भाई को टीम वहीं पूछताछ के लिए ले गई है। पीड़िता के भाई को टीम मंगलवार को तीन बजकर 55 मिनट पर अलीगढ़ रोड पर कृषि कार्यालय परिसर में बने अपने कैम्प ऑफिस पर लेकर आई। रात करीब पौने आठ बजे उसे गांव में छोड़ने के लिए टीम यहां से रवाना हो गई।

सीबीआई पहुंचने से पहले पिता की तबियत बिगड़ी
सीबीआई जांच दल के गांव पहुंचने से पहले ही पीड़िता के पिता की तबियत खराब हो गई। बीपी कम होने के कारण बेहोशी आने लगी। इस पर आनन-फानन में सीएमओ डा. ब्रजेश अपनी टीम के साथ गांव पहुंचे और उपचार दिया। बाद में पिता को सीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां आधा घंटे बाद छुट्टी दे गई। दोपहर बाद पीड़िता की मां की भी तबियत खराब हो गई। उन्हें भी चिकित्सका सेवा उपलब्ध कराई गई।

न्याय मिलने के बाद अस्थियों का विसर्जन करेगा परिवार

सोमवार की देर रात लखनऊ से लौटे पीड़ित परिजनों ने कहां की उन्हें अब कुछ राहत महसूस हो रही है ,लेकिन जब तक उन्हें पूरी तरह से न्याय नहीं मिलेगा वे अपने कलेजे के टुकड़े की  अस्थियों को विसर्जित नहीं करेंगे।

 

Priti Chaubey

Recent Posts

लॉकडाउन में देह व्यापार मजबूर राजस्थान का घुमंतू समुदाय !

आज़ादी के बाद से लेकर अब तक 6 आयोग बने हैं. इनका काम घुमन्तू समुदायों…

3 weeks ago

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि के मीडिया अध्ययन विभाग में भरतमुनि संचार शोध केंद्र का हुआ उद्घाटन

अभा संत समिति के महामंत्री पूज्य स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती जी ने अपने आशीर्वचन में शोध…

3 weeks ago

डॉ साकेत बने भरत मुनि शोध केंद्र के सह समन्वयक

मोतिहारी। महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के नव गठित आचार्य भरत मुनि संचार शोध केंद्र में…

3 weeks ago

कैसे करें आईटीआर फॉर्म-1 फाइल?

इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने का मतलब सरकार को अपनी आमदनी की जानकारी देना…

2 months ago

अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में…

2 months ago

केंद्र ने राज्यों से नए साल पर कोरोना वायरस को लेकर पाबंदियों पर विचार करने के लिए कहा

कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन के डर को देखते हुए केंद्र सरकार ने नए साल के…

2 months ago

This website uses cookies.